Type Here to Get Search Results !

खुशियां छाई दीवाली पर, घर-घर आनंद दीप जले। सभी हृदय से दीप जलाकर,आपस में सद्भाव जगाते_santosh

*दीपगान* ‌‌          
    खुशियां छाई दीवाली पर, घर-घर आनंद दीप जले।           सभी हृदय से दीप जलाकर,आपस में सद्भाव जगाते।।1।।

  घर-घर आनंद दीप जले------- सादा जीवन सुख समृद्धि, सबको भाये दीवाली। 
 घर का कोना-कोना देखो, उजियारा से चमक रहा।।2।।    

घर-घर आनंद दीप जले------- जीवन मंगलगान करे,स्वागत सबका दीप करे।       
  खुद जलकर यूं दीपक देखो, अंधियारा को दूर भगाए।।3।। 
 घर-घर आनंद दीप जले--- उत्सव जब जब आता है, जीवन में खुशियां लाता है। 
सदा सत्य की राह दिखाता,प्रेम भाव सबको सिखलाता।4।।  
 घर-घर आनंद दीप जले-------  दीवाली पर सबका हृदय, खुशियों से भर जाता है।
 प्रेम सुधा बरसाने वाला, सबके हृदय को हरसाता है।।5।।  

घर-घर आनंद दीप जले------- खुशियां छाई दीवाली पर, घर-घर आनंद दीप जले।। 

 डॉ.सन्तोष कुमार विश्वकर्मा प्राचार्य यदुकुल महाविद्यालय, रायबरेली* उत्तर-प्रदेश भारत

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.