Type Here to Get Search Results !

डॉ शंकर दयाल सिंह सम्मान से साहित्यकारों को सम्मानित किया गया-sahitya samvad


डॉ शंकर दयाल सिंह के 26 वीं पुण्यतिथि पर विचार गोष्ठी का आयोजन
 साहित्यकारों को भी सम्मानित किया गया
औरंगाबाद 26/11/21सदर प्रखंड स्थित औरंगाबाद के संस्कृत महाविद्यालय के प्रांगण में जनेश्वर विकास केंद्र की आनुषंगिक इकाई साहित्य संवाद द्वारा भारत माता के अमर सपूत अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त साहित्यकार पूर्व सांसद डॉ शंकर दयाल सिंह जी की 26 वीं पुण्यतिथि धूमधाम से मनाई गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता साहित्य संवाद के अध्यक्ष प्रसिद्ध ज्योतिर्विद शिव नारायण सिंह ने किया जबकि संचालन सहसंयोजक डॉक्टर संजीव रंजन ने किया।कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्वलित करके किया गया। सर्वप्रथम उनके तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की गई, तत्पश्चात डॉ शंकर दयाल सिंह के व्यक्तित्व एवं कृतित्व विषयक संगोष्ठी में उपस्थित वक्ताओं ने अपने विचार संप्रेषण किया। आज के  पुण्यतिथि समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में राम लखन सिंह यादव कॉलेज के प्राचार्य गणेश महतो, संस्कृत महाविद्यालय के प्राचार्य सूर्यपत सिंह, जनेश्वर विकास केंद्र के सचिव सिद्धेश्वर विद्यार्थी, सिन्हा कॉलेज के अवकाश प्राप्त प्रोफेसर डॉ शिवपूजन सिंह उपस्थित थे। वक्ताओं ने कहा कि शंकर दयाल बाबू  बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने जिले के लिए साहित्य क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य किए थे ।राजनीति के क्षेत्र में उन्होंने कम समय में ही विशिष्ट प्रसिद्धि हासिल की थी। उनका पूरा राजनीतिक जीवन साहित्यिक संप्रेषणाओं से विभूषित था। पुण्यतिथि के अवसर पर जिले के साहित्यकारों को सम्मानित किया गया ।डॉ शंकर दयाल सिंह साहित्य सम्मान से सम्मानित होने वाले प्रेमेंद्र मिश्र, राम किशोर सिंह, कुंवर विजय कृष्ण ब्रजराज, अरविंद अकेला, श्रीराम राय, मरणोपरांत प्रोफेसर तारकेश्वर सिंह, प्रभात बांधुल्य, रामनाथ सिंह  ने सहभागिता निभाई। प्रोफेसर सुरेंद्र सिंह ने अपने वक्तव्य में कहा कि शंकर दयाल बाबू के कार्यक्रम के लिए प्रतिवर्ष ₹51000 संस्था को देंगे ।साथ ही साथ मूर्ति स्थापना के लिए ₹100000 देने की घोषणा की । यादव कॉलेज के प्राचार्य गणेश महतो ने शंकर दयाल बाबू को मरणोपरांत पद्मभूषण देने की मांग की। संगोष्ठी के वक्ताओं के विचार समेकन के पश्चात सचिव सुरेश विद्यार्थी ने एक प्रस्ताव दिया सर्वप्रथम शंकर दयाल बाबू को मरणोपरांत पद्म भूषण सम्मान दिया जाए।दूसरा शंकर दयाल बाबू का स्मारक का निर्माण कराया जाए ।तीसरा हर साल 26 नवंबर को कवि सम्मेलन आयोजन किया जाए।प्रस्ताव को सदन ने सर्वसम्मति से पारित किया। संस्था के सभी लोगों ने  संकल्प लिया।आज के पुण्यतिथि कार्यक्रम में कविता विद्यार्थी, योगेंद्र प्रसाद जोगी, नारायण सिंह ,रविंद्र कुमार सिंह, संजय कुमार सिंह ,मधुरेंद्र कुमार सिंह, राम भजन सिंह ,संस्था के उपाध्यक्ष लालदेव सिंह, संयोजक अनिल कुमार सिंह, अधिवक्ता कमलेश कुमार सिंह,सह सचिव उज्जवल रंजन सहित अन्य उपस्थित थे।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.